सुखा लहरा लेबर हर साल लाखों श्रद्धालु पहुंचथे हथखोज

0
103
saptdhar hathkhoj

महासमुंद-

महासमुंद जिला से 10 किलोमीटर दूर बसे गांव हथखोज पूरा प्रदेश में मकर संक्रांति के दिन सुखा लहरा बर जाने जाथे |महासमुन्द जिला के ग्राम हथखोज जहां सात नदी के संगम होथे। ये इलाका में ये स्थान गंगा के तट से कम नई हे| मकर संक्राति के एक सप्ताह पूर्व ही महासमुन्द, गरियाबंद, राजिम, धमतरी, अभनपुर इलाका के श्रध्दालु मन द्वारा पंचकोशी यात्रा करे जाथे।

हथखोज में हर वर्ष 13 जनवरी से 15 जनवरी के बीच तीन दिन के मेला नदी किनारे लगाय जाथे। हथखोज के शक्ति सतधरा मंदिर में अब हर गुरूवार के गंगा आरती करे जाथे जेमा शामिल होय बर दूर-दूर से श्रध्दालु मंदिर पहुंचथे पंचकोशी यात्रा के शुरूआत राजिम के कुलेश्वर मंदिर से करे जाथे। कुलेश्वर मंदीर से श्रध्दालु मन द्वारा पैदल नंगे पांव ये यात्रा प्रारंभ करे जाथे | कुलेश्वर मंदीर से ये यात्रा पटेश्वर मंदिर पटेवा, चम्पेश्वर मंदिर चम्पारण, शक्ति सतधरा हथखोज, बम्हनी के महादेव बम्हनेश्वर, कनेकेरा के कनेश्वर, फिंगेश्वर के फनेश्वर, कोपरा के कोपश्वर येकर बाद वापस राजिम के कुलेश्वर मंदिर पहुंचके श्रध्दालु पंचकोशी यात्रा समाप्त करथे |

 

 

image-source-google

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here