छत्तीसगढ़ राज्य गीत : अरपा पैरी के धार… बनीस छत्तीसगढ़ के राजगीत

0
43
dr narenradev varma

रायपुर-

छत्तीसगढ़ सरकार ह ‘अपरा पैरी के धार, महानदी अपार, इंदिरावती हर पखारय तोरे पईयां महूं विनती करत तोर भुँइया, जय हो जय हो छत्तीसगढ़ मईया’ गीत ल प्रदेश के राजगीत घोषित करे हे। ये गीत के रचना राज्य के प्रसिद्ध गीतकार अउ साहित्यकार डॉ. नरेंद्रदेव वर्मा ह करे हे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल डॉ. वर्मा के दामाद हे। रविवार के साइंस कॉलेज मैदान में आयोजित राज्योत्सव के मंच से मुख्यमंत्री बघेल ह ये गीत ल राजगीत बनाय के घोषणा करिस। ये गीत ल राज्य सरकार के महत्वपूर्ण सरकारी कार्यक्रम अउ आयोजन में बजाय जाहि।

ये गीत के रचनाकार स्व. डॉ. नरेंद्रदेव वर्मा छत्तीसगढ़ी परंपरा में रचे-बसे रिहिस। ओकर जन्म चार नवंबर 1939 के वर्धा के सेवाग्राम में होय रिहिस। ओकर जयंती के पूर्व संध्या यानि के तीन नवंबर के सरकार ह छत्तीसगढ़ी में ओकर गीत ल राजगीत घोषित करिस। डॉ. वर्मा छत्तीसगढ़ी भाषा-अस्मिता के पहचान बनाने वाला गंभीर कवि रिहिस। महज 40 वर्ष के उम्र में आठ सितंबर 1979 के रायपुर में ओकर निधन होगे |

 

 

image-source-google

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here