आज का सुविचार 09-01-2020

0
56
9 janvary

 

झूठ बोलना भी एक कला है,

जिसमें इंसान अपने बुने हुए जाल में

फँसता भी खुद है और उलझता भी खुद है।

सुप्रभात………

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here